Monthly Archives: May 2016

पंक्तियां

Standard

उगते हुए और ढलते हुए सूरज को देखा

टिमटिमाते हुए तारों को और जगमगाते हुए चाँद को देखा

शाखों पे फूल और डालों पे चिड़ियों को देखा

सीना ताने पहाड़ और सब्ज़ घाटिओं में उतरते बादलों को देखा

तुम्हे और तुम्हारे प्यार को मन के गेहरायों में देखा

ऐ खुदा हम ने इन सब में तुम्हे देखा